हिन्दुत्व पर नहीं है राहुल गांधी को विश्वास; तो फिर कैसे हुए कौल ब्राह्मण

0
21

चुनाव में हर रोज फिजाएं बदलती है, नेता अपने रंग बदलते हैं,और बयान बदलते और नेता दल तक बदलते है। इस बीच राहुल गांधी ने अपने आप को कौल ब्राह्मण बताया है, गौरतलब है कि पिछले दिनों राहुल गांधी ने खुद को शिव भक्त बताया था।

अब ऐसे में राजनैतिक इतिहासकारों का कहना है की आखिरकार सवाल यह उठता है, की फिरोज खान का पोता कौल ब्राह्मण कैसे हो सकता है।

राहुल गांधी के दादा फिरोज खान धर्म से पारसी थे, और उन्होंने इंदिरा गांधी से विवाह किया था। अब सवाल यही उठता है, की पुरुष प्रधान समाज में व्यक्ति पिता के नाम से पहचाना जाता है, पर यहां मामला थोड़ा उल्टा है, अब राहुल गांधी के बयान से मामला एक बार फिर गरमा गया है।

वही विपक्ष के नेताओं ने तंज कसते हुऐ कहा राहुल गाँधी हर रोज कोई न कोई नया जाति धर्म ओढ लेते है।
वही सियासी जानकारों का कहना है, राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी की और हिंदू वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए इस तरीके के बयान दे रहे हैं।

बहरहाल कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने हाल ही में एक साक्षात्कार में बडा चौकाने वाला वक्तव्य दिया है।राहुल गाँधी ने अपने साक्षात्कार में हिन्दुत्व के सवाल के जबाब में कहा, “में किसी भी प्रकार के हिन्दुत्व नरम हिन्दुत्व हो या गरम हिन्दुत्व पर विश्वास नहीं करता हूँ”

लेकिन राहुल गाँधी का यह जबाब देना और अब खुद को कौल ब्राह्मण बताना मेल नहीं खाता है।

वही सियासी जानकारों का मानना है कि राहुल गाँधी का हर बार नया चोला पहन लेने से हिन्दू वोटर कांग्रेस के खिलाफ वोट कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here